Thursday, 23 June 2016

General Knowledge - June - 2nd Edition


General Knowledge


1.         राष्ट्रीय ध्वज - तिरंगा
•           भारत की संविधान सभा ने राष्ट्रीय ध्वज का प्रारूप 22 जुलाई 1947 को अपनाया था ।
•           राष्ट्रीय ध्वज तिरंगे में समान अनुपात में तीन क्षैतिज पट्टियां हैं: गहरा केसरिया रंग सबसे ऊपर, सफेद बीच में और हरा रंग सबसे नीचे है।
•           ध्वज की लंबाई-चौड़ाई का अनुपात 3:2 है।
•           सफेद पट्टी के बीच में नीले रंग का चक्र है।
•           शीर्ष में गहरा केसरिया रंग देश की ताकत और साहस को दर्शाता है। बीच में स्थित सफेद पट्टी धर्म चक्र के साथ शांति और सत्य का संकेत है।  हरा रंग देश के शुभ, विकास और उर्वरता को दर्शाता है।
•           राष्ट्रीय ध्वज का प्रारूप सारनाथ में अशोक के सिंह स्तंभ पर बने चक्र से लिया गया है। इसका व्यास सफेद पट्टी की चौड़ाई के लगभग बराबर है और इसमें 24 तीलियां हैं।

•           जन गण मन, भारत का राष्ट्रगान है जो मूलतः बंगाली में स्‍वर्गीय कवि रविन्‍द्र नाथ टैगोर ठाकुर द्वारा लिखा गया था।
•           संविधान सभा ने जन-गण-मन को भारत के राष्ट्रगान के रुप में 24  जनवरी 1950  को अपनाया था। इसे सर्वप्रथम 27 दिसम्बर 1911 को कांग्रेस के कलकत्ता अब दोनों भाषाओं में (बंगाली और हिन्दी) अधिवेशन में गाया गया था।
•           राष्ट्र गान के सही संस्करण के बारे में समय समय पर अनुदेश जारी किए गए हैं, इनमें वे अवसर जिन पर इसे बजाया या गाया जाना चाहिए और इन अवसरों पर उचित गौरव का पालन करने के लिए राष्ट्र गान को सम्मान देने की आवश्यकता के बारे में बताया जाता है।
•           सामान्य सूचना और मार्गदर्शन के लिए इस सूचना पत्र में इन अनुदेशों का सारांश निहित किया गया है।
•           निम्नलिखित राष्‍ट्र गान का पूर्ण संस्‍करण है और इसकी कुल अवधि लगभग 52 सेकंड है।
                                    जन-गण-मन अधिनायक, जय हे
                                    भारत-भाग्‍य-विधाता,
                                    पंजाब-सिंधु गुजरात-मराठा,
                                    द्रविड़-उत्‍कल बंग,
                                    विन्‍ध्‍य-हिमाचल-यमुना गंगा,
                                    उच्‍छल-जलधि-तरंग,
                                    तव शुभ नामे जागे,
                                    तव शुभ आशिष मांगे,
                                    गाहे तव जय गाथा,
                                    जन-गण-मंगल दायक जय हे
                                    भारत-भाग्‍य-विधाता
                                    जय हे, जय हे, जय हे
                                    जय जय जय जय हे।

•           राष्ट्रीय गीत को पहली बार 1896 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के सत्र में गाया गया था।
•           बंकिमचन्द्र चट्टोपाध्याय द्वारा संस्कृत बाँग्ला मिश्रित भाषा में रचित इस गीत का प्रकाशन सन् 1882 में उनके उपन्यास "आनन्द मठ" में अन्तर्निहित गीत के रूप में हुआ था।
•           वन्दे मातरम गीत बंकिम चन्द्र चटर्जी द्वारा संस्कृत में रचा गया है; यह स्वतंत्रता की लड़ाई में लोगों के लिए प्ररेणा का स्रोत था।
•           राष्ट्रीय गीत, वन्दे मातरम का स्थान जन गण मन के बराबर है।
•           24 जनवरी, 1950 को राष्ट्रपति डॉ. राजेन्द्र प्रसाद ने संविधान सभा में एक बयान दिया, "वंदे मातरम्, जो भारतीय स्वतंत्रता संघर्ष में एक ऐतिहासिक भूमिका निभाई है, जन गण मन के साथ समान रूप से सम्मानित किया जाएगा और इसके साथ बराबर का दर्जा होगा"|
                                                वन्दे मातरम्।
                                                सुजलाम् सुफलाम् मलय़जशीतलाम्,
                                                शस्यश्यामलाम् मातरम्। वन्दे मातरम्।। १।।
                                                शुभ्रज्योत्स्ना पुलकितयामिनीम्,
                                                फुल्लकुसुमित द्रुमदलशोभिनीम्,
                                                सुहासिनीम् सुमधुरभाषिणीम्,
                                                सुखदाम् वरदाम् मातरम्। वन्दे मातरम्।। २।।
                                                कोटि-कोटि कण्ठ कल-कल निनाद कराले,
                                                कोटि-कोटि भुजैर्धृत खरकरवाले,
                                                के बॉले माँ तुमि अबले,
                                                बहुबलधारिणीं नमामि तारिणीम्,
                                                रिपुदलवारिणीं मातरम्। वन्दे मातरम्।। ३।।
                                                तुमि विद्या तुमि धर्म,
                                                तुमि हृदि तुमि मर्म,
                                                त्वम् हि प्राणाः शरीरे,
                                                बाहुते तुमि माँ शक्ति,
                                                हृदय़े तुमि माँ भक्ति,
                                                तोमारेई प्रतिमा गड़ि मन्दिरे-मन्दिरे। वन्दे मातरम् ।। ४।।
                                                त्वम् हि दुर्गा दशप्रहरणधारिणी,
                                                कमला कमलदलविहारिणी,
                                                वाणी विद्यादायिनी, नमामि त्वाम्,
                                                नमामि कमलाम् अमलाम् अतुलाम्,
                                                सुजलां सुफलां मातरम्। वन्दे मातरम्।। ५।।
श्यामलाम् सरलाम् सुस्मिताम् भूषिताम्,
                                                धरणीम् भरणीम् मातरम्। वन्दे मातरम्।। ६।।>

•           भारत का राजचिह्न सारनाथ स्थित अशोक के सिंह स्तंभ की अनुकृति है, जो सारनाथ के संग्रहालय में सुरक्षित है।
•           मूल स्तंभ में शीर्ष पर चार सिंह हैं, जो एक-दूसरे की ओर पीठ किए हुए हैं।
•           इसके नीचे घंटे के आकार के पदम के ऊपर एक चित्र वल्लरी में एक हाथी, चौकड़ी भरता हुआ एक घोड़ा, एक सांड तथा एक सिंह की उभरी हुई मूर्तियां हैं, इसके बीच-बीच में चक्र बने हुए हैं।
•           एक ही पत्थर को काट कर बनाए गए इस सिंह स्तंभ के ऊपर 'धर्मचक्र' रखा हुआ है।

5.         राष्ट्रीय पक्षी - मोर
•           भारतीय मोर (पावों क्रिस्तातुस) भारत का राष्ट्रीय पक्षी  है
•           मोर एक रंगीन, हंस के आकार का पक्षी पंखे आकृति की पंखों की कलगी, आँख के नीचे सफेद धब्बा और लंबी पतली गर्दन।
•           इस प्रजाति का नर मादा से अधिक रंगीन होता है जिसका चमकीला नीला सीना और गर्दन होती है और अति मनमोहक कांस्य हरा 200 लम्बे पंखों का गुच्छा होता है।
•           मादा भूरे रंग की होती है, नर से थोड़ा छोटा और इसमें पंखों का गुच्छा नहीं होता है।
•           नर का दरबारी नाच पंखों को घुमाना और पंखों को संवारना सुंदर दृश्य होता है।

6.         राष्‍ट्रीय पशु - बाघ
•           बाघ भारत के राष्‍ट्रीय पशु है।
•           टाइगर भारत और बांग्लादेश दोनों देशों का राष्ट्रीय पशु है
•           भारत में बाघों की रक्षा के लिए,"प्रोजेक्ट टाइगर" अप्रैल 1973 में शुरू किया गया एवं बाघ को 1973 में राष्ट्रीय पशु के रूप में घोषित किया गया था ।
•           इसकी मोटी पीली लोमचर्म का कोट होता है जिस पर गहरी धारीदार पट्टियां होती हैं।
•           लावण्‍यता, ताकत, फुर्तीलापन और अपार शक्ति के कारण बाघ को भारत के राष्‍ट्रीय जानवर के रूप में गौरवान्वित किया है।

7.         राष्ट्रीय पुष्प - कमल
•           कमल (निलम्बो नूसीपेरा गेर्टन) भारत का राष्ट्रीय फूल है।
•           यह पवित्र पुष्प है और इसका प्राचीन भारत की कला और गाथाओं में विशेष स्थान है और यह अति प्राचीन काल से भारतीय संस्कृति का मांगलिक प्रतीक रहा है।
•           यह पवित्रता , उपलब्धि , लंबे जीवन , और अच्छे भाग्य का प्रतीक है।

8.         राष्‍ट्रीय फल - आम
•           आम (मेग्‍नीफेरा इंडिका) भारत का राष्‍ट्रीय फल है
•           आम भारत में दक्षिण में कन्याकुमारी से उत्तर में हिमालय की तराई तक (3,000 फुट की ऊँचाई तक) तथा पश्चिम में पंजाब से पूर्व में आसाम तक, अधिकता से होता है।
•           आम का वृक्ष बड़ा और खड़ा अथवा फैला हुआ होता है; ऊँचाई 30 से 90 फुट तक होती है।
•           भारत में विभिन्‍न आकारों, मापों और रंगों के आमों की 100 से अधिक किस्‍में पाई जाती हैं।
•           मुगल बादशाह अकबर ने बिहार के दरभंगा में 1,00,000 से अधिक आम के पौधे रोपे थे, जिसे अब लाखी बाग के नाम से जाना जाता है।
•           भारत में उगायी जाने वाली आम की किस्मों में दशहरी, लंगड़ा, चौसा, फज़ली, बम्बई ग्रीन, बम्बई, अलफ़ॉन्ज़ो, बैंगन पल्ली, हिम सागर, केशर, किशन भोग, मलगोवा, नीलम, सुर्वन रेखा, वनराज, जरदालू प्रमुख हैं।
9.         राष्ट्रीय खेल - हॉकी
•           भारत का राष्ट्रीय खेल हाकी है। इसे अन्तराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त हो चुकी है।
•           हाकी का प्रारम्भ आज से 4000 वर्ष पूर्व ईरान में हुआ था।
•           26 मई को सन 1928 में भारतीय हाकी टीम प्रथम बार ओलिम्पिक खेलों में सम्मिलित हुई और विजय प्राप्त की।
•           सन 1932 में भारतीय टीम ने अमरिकी खिलाड़ियों को एक के विरुद्ध 24 गोलों से हराया। इस समय टीम के कप्तान थे श्री ध्यानचन्द ।
•           भारत ने हॉकी में अब तक ओलंपिक में आठ स्वर्ण, एक और दो कांस्य पदक जीते हैं।
•           हाकी खिलाड़ियों की शारीरिक चुस्ती, मानसिक स्फूर्ति और उनका खेल के प्रति प्रेम उनके विकास की सीढ़ी बन गया है।

10.        राष्‍ट्रीय पंचांग - शक संवत
•           राष्‍ट्रीय कैलेंडर शक संवत पर आधारित है, चैत्र इसका माह होता है और ग्रेगोरियन कैलेंडर के साथ साथ 22 मार्च, 1957 से सामान्‍यत: 365 दिन निम्‍नलिखित सरकारी प्रयोजनों के लिए अपनाया गया: भारत का राजपत्र, आकाशवाणी द्वारा समाचार प्रसारण, भारत सरकार द्वारा जारी कैलेंडर और लोक सदस्‍यों को संबोधित          
•           राष्‍ट्रीय कैलेंडर ग्रेगोरियम कैलेंडर की तिथियों से स्‍थायी रूप से मिलती-जुलती है।
•           सामान्‍यत: 1 चैत्र 22 मार्च को होता है और लीप वर्ष में 21 मार्च को।
•           राष्ट्रीय पंचांग के 12 महीनों के नाम इस प्रकार हैं : चैत्र, वैशाख, ज्येष्ठ, आषाढ़, श्रवण, भाद्रपद, आश्विन, कार्तिक, मार्गशीर्ष (अगहन), पौष, माघ और फाल्गुन

11.        राष्‍ट्रीय पेड़ - बरगद
•           भारतीय बरगद का पेड़ फाइकस बैंगा‍लेंसिस, जिसकी शाखाएं और जड़ें एक बड़े हिस्‍से में एक नए पेड़ के समान लगने लगती हैं।
•           जड़ों से और अधिक तने और शाखाएं बनती हैं। इस विशेषता और लंबे जीवन के कारण इस पेड़ को अनश्‍वर माना जाता है और यह भारत के इतिहास और लोक कथाओं का एक अविभाज्‍य अंग है।
•           आज भी बरगद के पेड़ को ग्रामीण जीवन का केंद्र बिन्‍दु माना जाता है और गांव की परिषद इसी पेड़ की छाया में बैठक करती है।

•           गंगा भारत की सबसे लंबी नदी है जो पर्वतों, घाटियों और मैदानों में 2,510 किलो मीटर की दूरी तय करती है।
•           गंगा नदी को हिन्‍दु समुदाय में पृथ्‍वी की सबसे अधिक पवित्र नदी माना जाता है। मुख्‍य धार्मिक आयोजन नदी के किनारे स्थित शहरों में किए जाते हैं जैसे वाराणसी, हरिद्वार और इलाहाबाद।
•           यह हिमालय के गंगोत्री ग्‍लेशियर में भागीरथि नदी के नाम से बर्फ के पहाड़ों के बीच जन्‍म लेती है। इसमें आगे चलकर अन्‍य नदियां जुड़ती हैं, जैसे कि अलकनंदा, यमुना, सोन, गोमती, कोसी और घाघरा।
•           गंगा नदी का बेसिन विश्‍व के सबसे अधिक उपजाऊ क्षेत्र के रूप में जाना जाता है और यहां सबसे अधिक घनी आबादी निवास करती है तथा यह लगभग 1,000,000 वर्ग किलो मीटर (बाहरी वेबसाइट जो एक नई विंडों में खुलती हैं) में फैला हिस्‍सा है।
•           नदी पर दो बांध बनाए गए हैं - एक हरिद्वार में और दूसरा फरक्‍का में।
•           गंगा नदी में पाई जाने वाली डॉलफिन एक संकटापन्‍न जंतु है, जो विशिष्‍ट रूप से इसी नदी में वास करती है।

•           गंगा नदी बंगलादेश के सुंदर वन द्वीप में गंगा डेल्‍टा पर आकर व्‍यापक हो जाती है और इसके बाद बंगाल की खाड़ी में मिलकर इसकी यात्रा पूरी होती है।


India GK DVD
India GK DVD @399/-












#IndiaGkDVD 
#PracticeGuruGkDVD